Play bazaar

प्ले बाजार

Play bazaar


बाजार एक तरह का सट्टा बाजार होता है। सट्टा बाजार का अर्थ है, यहां हर रोज लाखों करोड़ों रुपयों का जुआ खेला जाता है। जी हां दोस्तों प्ले बाजार एक तरह का जुए का मार्केट है। जहां पर देश के अलग-अलग कोने से अलग-अलग लोग अलग-अलग नंबरों पर अपना दाव लगाते हैं। इसमें जीतने वाले को एक बहुत ही अच्छी रकम मिलती है, ये सट्टा अलग-अलग समय पर अलग-अलग नंबरों पर खोला जाता है।

Play bazaar




विश्व भर में खेला जाने वाला अनैतिक और गैरकानूनी खेल है सट्टा। जी हां दोस्तों सट्टे को विश्वभर के कई देशों में बैन किया गया है, और भारत में तो यह खास तौर पर प्रतिबंधित है। परंतु इसके बाद भी हर रोज लाखों करोड़ों रुपयों की तादाद में सट्टा खेला जाता है। प्ले बाजार लोगों को वह मंच उपलब्ध कराता है। जहां लोग अपने नंबरों पर अपनी गणना के अनुसार पैसे लगा सकते हैं। यह सट्टा अलग-अलग शहरों में अलग-अलग समय पर और अलग-अलग नंबरों के खुलते हैं। कोई भी व्यक्ति जो कि प्ले बाजार में सट्टा खेलता है वह किसी एक नंबर पर अपने मन अनुसार, अपने सामर्थ्य के अनुसार पैसा लगाता है। यह रकम मार्केट खुलने के साथ ही न्यूनतम और अधिकतम निर्धारित होती है। हालाकि प्ले बाजार में केवल न्यूनतम राशि निर्धारित होती है, अधिकतम कोई सीमा नहीं होती है।


Play bazaar

दरअसल बात यह है कि सट्टा तो वैसे भी अन्य जगहों पर लगाया जा सकता है, परंतु प्ले बाजार एक ऐसा ऑनलाइन मार्केट है। जहां सट्टा लगाने वाले की पहचान को बहुत ही गोपनीय रखा जाता है।

Play bazaar

 गैरकानूनी होने के कारण यदि कोई भी व्यक्ति सट्टा लगाते हुए पकड़ा जाता है, तो उसे जुर्माने के साथ-साथ जेल भी हो सकती है। इसलिए प्ले बाजार अपने ग्राहकों को बहुत ही गोपनीय तरीके से स सट्टा लगाने की सुविधा उपलब्ध कराता है। और बहुत ही बड़ा ऑनलाइन प्लेटफॉर्म होने के कारण प्ले बाजार की डिमांड दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। सट्टा प्रेमियों के बीच में प्ले बाजार सबसे अधिक पसंदीदा बाजार माना जा रहा है।

Play bazaar


इसके पीछे का कारण का प्ले बाजार की विश्वसनीयता को ही बताया जा रहा है। जहां एक ओर प्ले बाजार अपने सभी ग्राहकों की पहचान को गोपनीय रखता है। वहीं दूसरी ओर इसमें पैसे डूबने के चांसेस भी बहुत ही कम होते हैं। कहने का अर्थ यह है कि, जो पैसे हम लगाते हैं यदि उस un नंबर की लॉटरी खुलती है, तो हमें हमारे जीते हुए पैसे सचमुच में हमें मिल जाते हैं। अन्यथा कई ऐसी कंपनियां हैं जो पैसे ले तो लेती है, किंतु जीती हुई रकम कभी भी नहीं देती है।

Comments